पृथ्वी दिवस: क्यों मनाते हैं, क्या है इतिहास और महत्व?
1 min read

पृथ्वी दिवस: क्यों मनाते हैं, क्या है इतिहास और महत्व?

हर साल 22 अप्रैल को विश्व पृथ्वी दिवस (World Earth Day) मनाया जाता है। यह दिन पर्यावरण के प्रति जागरूकता बढ़ाने और पृथ्वी की रक्षा करने के लिए प्रेरित करने के लिए मनाया जाता है। पृथ्वी दिवस हमें प्रकृति के साथ हमारे गहरे संबंधों को याद दिलाता है और यह हमें सिखाता है कि हम प्रकृति का ही हिस्सा हैं और प्रकृति हमारे अस्तित्व के लिए ज़रूरी है। पृथ्वी दिवस हमें पृथ्वी पर मानव जीवन के महत्व को समझने में मदद करता है।यह हमें आने वाली पीढ़ियों के लिए पृथ्वी को स्वस्थ और रहने योग्य बनाने के लिए प्रेरित करता है।
आइये जानते हैं इसके इतिहास और महत्त्व के बारे में विस्तार से –

पृथ्वी दिवस का इतिहास:

1970:अमेरिका में बिगड़ती पर्यावरणीय स्थिति से चिंतित होकर अमेरिकी सीनेटर गेराल्ड नेल्सन (Gaylord Nelson) और हार्वर्ड विश्वविद्यालय के छात्र डेनिस हेस(Denis Hayes) ने पृथ्वी दिवस मनाने की शुरुआत की। उन्होंने 22 अप्रैल की तारीख इसलिए चुनी क्योंकि इस दौरान अमेरिका में ज्यादातर कॉलेजों में वसंत ऋतु की छुट्टियां होती हैं, जिससे ज्यादा लोग इस अभियान में शामिल हो सकें।
उस समय इस आंदोलन को अमेरिका भर में 2 करोड़ लोगों का समर्थन मिला था। 1990 तक पृथ्वी दिवस एक वैश्विक कार्यक्रम (Global Event) बन चुका था।

पृथ्वी दिवस का महत्व:

पृथ्वी दिवस हमें पर्यावरण के मुद्दों, जैसे कि जलवायु परिवर्तन (Climate Change), वायु और जल प्रदूषण(Air and Water Pollution), वन कटाई (Deforestation), और जैव विविधता का ह्रास (Loss of Biodiversity) के बारे में जानकारी प्रदान करता है।
यह हमें पर्यावरण के प्रति अपनी जिम्मेदारियों को समझने में मदद करता है। दिवस हमें पर्यावरण को बचाने के लिए कार्रवाई करने के लिए प्रेरित करता है। हम पृथ्वी दिवस पर पौधे लगाकर, कचरा कम करके, पानी और ऊर्जा बचाकर और प्लास्टिक का इस्तेमाल कम करके पर्यावरण में अपना योगदान दे सकते हैं।

2024 पृथ्वी दिवस थीम – ग्रह बनाम प्लास्टिक :

इसका उद्देश्य लोगों को प्लास्टिक प्रदूषण के गंभीर मुद्दे के प्रति जागरूक करना और प्रेरित करना है। प्लास्टिक प्रदूषण पर्यावरण और मानव स्वास्थ्य के लिए एक गंभीर खतरा है। हम पृथ्वी दिवस पर प्लास्टिक का इस्तेमाल कम करके और प्लास्टिक कचरे का पुनर्चक्रण करके प्लास्टिक प्रदूषण को कम करने में अपना योगदान दे सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *