डीपफेक से बचाव: जागरूक रहें, सुरक्षित रहें!
1 min read

डीपफेक से बचाव: जागरूक रहें, सुरक्षित रहें!

वर्तमान समय में अर्टिफिशियल इंटेलिजेंस यानि की AI का चलन बहुत तेजी से बढ़ गया है। हालाँकि इसका उपयोग के साथ साथ इसका दुरूपयोग भी बहुत तेजी से बढ़ा है। आजकल तकनीक का इस्तेमाल गलत सूचना फैलाने और लोगों को धोखा देने के लिए किया जा रहा है। लेकिन इसका बचाव भी संभव है।तो आइये जानते हैं विस्तार से क्या होता है डीपफेक और इससे कैसे बचा जा सकता है –

डीपफेक क्या है?

डीपफेक अर्टिफिशियल इंटेलिजेंट (AI) द्वारा बनाए गए वीडियो या ऑडियो होते हैं, जिनमें किसी व्यक्ति को ऐसा कहते या करते हुए दिखाया जाता है, जो उन्होंने वास्तव में नहीं कहा या किया था। ये वीडियो बहुत रीयलिस्टिक हो सकते हैं, यही वजह है कि लोगों को इन पर विश्वास करना आसान हो जाता है।

डीपफेक का इस्तेमाल कैसे किया जाता है?

डीपफेक का इस्तेमाल कई तरह के गलत कामों के लिए किया जा सकता है, जैसे:

प्रसिद्ध हस्तियों को बदनाम करना
गलत सूचना फैलाना
चुनावों में हेरफेर करना
धोखाधड़ी करना

डीपफेक से कैसे बचें?

हालांकि डीपफेक से पूरी तरह से बचना मुश्किल है, आप इन सावधानियों को अपनाकर खुद को बचा सकते हैं:

1. जानकारी रखें:

डीपफेक कैसे काम करते हैं, यह समझें और डीपफेक के सामान्य संकेतों, जैसे कि अजीब चेहरे के भाव, असामान्य ब्लिंकिंग, या खराब सिंक्रोनाइज़ेशन, से अवगत रहें।

2. सोशल मीडिया पर सावधानी बरतें:

केवल विश्वसनीय स्रोतों से जानकारी साझा करें। किसी भी वीडियो या ऑडियो पर विश्वास करने से पहले, उसकी सत्यता की जांच करें।
सोशल मीडिया पर अपनी निजी जानकारी साझा करने से बचें।

3. मजबूत गोपनीयता सेटिंग्स का उपयोग करें:

अपने सोशल मीडिया अकाउंट और अन्य ऑनलाइन खातों के लिए मजबूत पासवर्ड का उपयोग करें। दो-कारक प्रमाणीकरण सक्षम करें व अपने गोपनीय सेटिंग्स को नियमित रूप से अपडेट करें।

4. डिजिटल वाटरमार्क का उपयोग करें:

यदि आप ऑनलाइन फोटो या वीडियो साझा करते हैं, तो उन पर डिजिटल वाटरमार्क लगाएं जिससे की डीपफेक बनाने वालों के लिए आपकी वीडियो या फोटो का उपयोग करना अधिक कठिन बना देगा।

5. एंटी-वायरस और एंटी-मैलवेयर सॉफ्टवेयर का उपयोग करें:

अपने डिवाइस पर अपडेटेड एंटी-वायरस और एंटी-मैलवेयर सॉफ्टवेयर स्थापित करें।यह आपको फ़िशिंग हमलों और संदिग्ध लिंक से बचाने में मदद करेगा।

6. अपनी निजी जानकारी को सुरक्षित रखें:

कभी भी डिजिटल प्लेटफॉर्म पर अपने महत्वपूर्ण दस्तावेजों, जैसे पासपोर्ट, आधार कार्ड, या पैन कार्ड को साझा न करें। इन कीमती दस्तावेजों को गलत हाथों में जाने से रोकें।

7. डीपफेक की रिपोर्ट करें:

यदि आप किसी डीपफेक का सामना करते हैं, तो उसे संबंधित प्लेटफॉर्म पर रिपोर्ट करें।यह गलत सूचना को फैलने से रोकने में मदद करेगा।

डीपफेक एक गंभीर खतरा है, लेकिन जागरूकता और सावधानी बरतकर आप खुद को बचा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *